निरालम्ब उपनिषद

यह उपनिषद शुक्ल याजुर्ववेद से संभंधित है | इसमें ब्रह्मा, ईश्वर, जीव, प्रकृति, जगत, ज्ञान, कर्म, स्वर्ग-नरक आदि का विवेचन किया गया है |इसमें कुल चालीस मंत्र हैं |

Download (PDF, 68KB)