मुण्डक उपनिषद

यह उपनिषद अथर्ववेद के अंतर्गत  है | इसमें तीन मुण्डक हैं तथा प्रत्येक मुण्डक में 2-2 खण्ड हैं | कुल ६४ मंत्र हैं | मुण्डक शब्द का भावार्थ ” मन का मुंडन कर अविधा से मुक्त करने वाला ज्ञान ” है |

Download (PDF, 61KB)