ऐतरेय उपनिषद्

ऋग्वेद के ऐतरेय नामक ब्राह्मण ग्रन्थ के दुसरे अंक  के अध्याय ४,५ और ६ का नाम ऐतरेय उपनिषद् है | इसमें ब्रह्म विद्या का निरूपण किया गया है | इश्वर द्वारा सृष्टि रचना का संकल्प करके लोकों व लोकपालों की रचना तथा उनके आवास रूप मनुष्य की रचना अवं अन्य प्राणियों आदि का वर्णन है |

Download (PDF, 76KB)